जल प्रबंधन, स्वच्छता और साफ-सफाई

पानी और साफ-सफाई मिलना बुनियादी मानव अधिकार हैं। कांग्रेस प्रौद्योगिकी, वकालत, और कानून के माध्यम से पानी और स्वच्छता की चुनौतियों का समाधान करने का वादा करती है।

  1. कांग्रेस सभी के लिये पीने के साफ पानी की उपलब्धता का वादा करती है। राष्ट्रीय पेयजल मिशन की समीक्षा की जायेगी और इसे मजबूत बनाया जायेगा। बजट आवंटन में महत्त्वपूर्ण वृद्धि की जायेगी।
  2. कांग्रेस पानी की कमी की चुनौती को स्वीकार करती है और जल-संबंधित सभी गतिविधियों और विभागों को एक प्राधिकार के तहत लाने के लिए जल मंत्रालय बनाने का वादा करती है।
  3. हम पानी तक पहुंच और पानी के लोकतांत्रिक बंटवारे पर विशेष ध्यान देंगे। हम बांधों में भंडारण और जल निकायों पर ध्यान केंद्रित करके, भूजल को फिर से भरकर तथा राज्य सरकारों, नागरिक समाज संगठनों, किसानों, अन्य उपयोगकर्ताओं, पंचायतों और ग्राम सभाओं में जल प्रबंधन के संबंध में बड़े भागीदारी कार्यक्रम का निर्माण करेंगे।
  4. कांग्रेस गंगा सहित अन्य नदियों की सफाई के लिये बजट आवंटन को दोगुना करने का वादा करती है। कांग्रेस नदियों की सफाई के लिये मौजूदा तरीकों की समीक्षा करने और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की नवीनतम तकनीकों को अपनाने के प्रयासों को मजबूत बनाने का वादा करती है। हम गंगा एक्शन प्लान को लोगों के कार्यक्रम में बदल देंगे और इसे लागू करेंगे।
  5. कांग्रेस निर्मल भारत अभियान (एनबीए) की समीक्षा करेगी और इसे दोबारा लागू करेगी ताकि यह सुनिश्चित हो कि सभी को पानी के साथ साफ-सुथरे, चालू हालत में शौचालय मिल सकें। आंकड़ों की बाजीगरी करने की बजाय कांग्रेस का ये वादा है कि एनबीए के तहत व्यक्तिगत शौचालयों (जो घर की जिम्मेदारी होगी) के निर्माण के साथ-साथ सामुदायिक शौचालयों (जो पूर्व अर्हता प्राप्त एनजीओ की जिम्मेदारी होगी) के निर्माण में मदद मिले।
  6. हम मलजल के शोधन और सुरक्षित निपटान के लिये व्यापक योजना लागू करेंगे।
  7. कांग्रेस डिस्पोजेबल टिशू पेपर के उपयोग, हाथ धोने और स्त्रियों में माहवारी के दौरान कम लागत वाले सैनिटरी नैपकिन के इस्तेमाल को बढ़ावा देकर स्वच्छता पर ध्यान देने का वादा करती है। स्कूल, कॉलेजों और सार्वजनिक स्थानों पर सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन लगाने के लिये पंचायतों, नगर पालिकाओं और गैर-सरकारी संगठनों का समर्थन किया जायेगा।
  8. कांग्रेस अगले 3 साल में सिर पर मैला ढ़ोने वाली बुराई को मिटाने का वादा करती है। सिर पर मैला ढ़ोने वाले प्रत्येक सफाईकर्मी का पुनर्वास, फिर से कुशल बनाकर, नौकरी प्रदान की जायेगी और उसे सम्मान और सुरक्षा के साथ जीवन जीने का भरोसा दिया जायेगा। सिर पर मैला ढोने की प्रथा कानून, 2013 के निषेध को सख्ती से लागू किया जायेगा और कोई भी व्यक्ति यदि किसी से इस प्रकार मैला ढोने का काम कराता है तो उसे दंडित किया जायेगा। हम मशीनों की खरीद के लिये पर्याप्त धन आवंटित करेंगे, जो सीवर और सेप्टिक टैंक को साफ करेंगे और मानव अपशिष्ट को हटायेंगे।
  • काम

    रोजगार और विकास

  • दाम

    सबके हितार्थ अर्थव्यवस्था

  • शान

    हमारी दूरदर्शिता और ढृढ़शक्ति पर गर्व

  • सम्मान

    सभी के लिये सम्मानजनक जीवन

  • सुशासन

    स्वतंत्र और जवाबदेह संस्थानों की मदद से

  • स्वाभिमान

    वंचितों का आत्मसम्मान