केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल

केन्द्रीय सशस्त्र सुरक्षा बल हमारी सीमाओं की रक्षा की पहली पंक्ति है। देश में कानून और व्यवस्था टूटने के दौरान भी वे सबसे पहली पंसद होते है। हजारों जवानों ने अपने कर्तव्यों के निर्वहन के दौरान अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। कांग्रेस केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल की क्षमता बढ़ाने और जवानों के कल्याण कार्यक्रम में सुधार का वायदा करती है।

  1. हम सीमा सुरक्षा और आन्तरिक सुरक्षा की बढ़ती आवश्यकताओं के मद्देनज़र सी.ए.पी.एफ. की क्षमताओं का विकास करेंगे।
  2. हर वक्त एक निश्चित संख्या में बटालियन आराम कर रही होगी या स्वास्थ्य लाभ ले रही होगी या फिर प्रशिक्षण  में व्यस्त होगी, उस दौरान उस बटालियन को किसी कार्य में तैनात नही किया जायेगा।
  3. कांग्रेस सी.आई.एस.एफ., सी.आर.पी.एफ. और बी.एस.एफ. में महिलाओं की संख्या बढ़ाकर 33 प्रतिशत तक सुनिश्चित करने का वायदा करती है। आई.टी.बी.पी., एस.एस.बी. और असम राइफल जैसे अन्य सीमा रक्षक बलों में भी महिलाओं की संख्या बढ़ाई जायेगी।
  4. हम सी.ए.पी.एफ. कर्मियो और उनके परिवारों को भी शिक्षा, स्वास्थ्य और आवास की सुविधाओं में वृद्धि करके उन्हें सशस्त्र बलों की बराबरी में लायेंगे। सैनिक स्कूल के मॉडल के अनुरूप सी.ए.पी.एफ. कर्मियों के बच्चों के लिए स्कूलों की स्थापना की जायेगी।
  5. कांग्रेस सैन्य कार्रवाई के दौरान जान गंवाने वाले जवानों का दर्जा बढ़ाने तथा उनके परिवारजनों को दी जाने वाली सहायता में वृद्धि करेगी।
  6. हम सी.ए.पी.एफ. के कर्मियों की सेवा नियमावली तैयार करने के लिए एक समिति गठित करेंगे।
  • काम

    रोजगार और विकास

  • दाम

    सबके हितार्थ अर्थव्यवस्था

  • शान

    हमारी दूरदर्शिता और ढृढ़शक्ति पर गर्व

  • सम्मान

    सभी के लिये सम्मानजनक जीवन

  • सुशासन

    स्वतंत्र और जवाबदेह संस्थानों की मदद से

  • स्वाभिमान

    वंचितों का आत्मसम्मान