कला-संस्कृति और साहित्य

कला-संस्कृति और विरासत लोगों को पहचान दिलाती है। भारत जैसा बहु-सांस्कृतिक देश, जिसके पास गर्व करने लायक कला-संस्कृति-साहित्य और बृहद विरासत है, जिसे संरक्षित और सुरक्षित किये जाने की जरूरत है।

  1. कांग्रेस भारत की कला और समृद्ध विविधतापूर्ण संस्कृति की रक्षा करने और इसे स्वतंत्र और रचनात्मक माहौल में फलने-फूलने का मौका मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है। हम पूरी तरह से सेंसरशिप का विरोध करने के साथ ही किसी भी समूह की कला और संस्कृति को बदनाम करने या नष्ट करने का विरोध करेंगे।
  2. मानवशास्त्रीय महत्व के अद्वितीय समूहों की कला, संस्कृति और विरासत को सुरक्षित, संरक्षित और बढ़ावा देने के प्रयासों को पर्याप्त सहायता और धन मुहैया करवाया जायेगा।
  3. हम पारंपरिक कला और शिल्प के क्षेत्र में कार्यरत् कलाकारों और शिल्पकारों को आर्थिक सहायता (फैलोशिप) प्रदान करेंगे।
  4. कांग्रेस कलात्मक स्वतंत्रता की गांरटी देगी, कलाकार और शिल्पकार सेंसरशिप या विरोध के डर के बिना अपने विचार व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र होंगे। स्वयंभू सतर्कता समूहों द्वारा किसी प्रकार का सेंसर करने तथा कलाकारों को धमकाने को पूरी गंभीरता के साथ लेते हुए कानूनी कार्यवाही की जायेंगी।
  5. कांग्रेस सांस्कृतिक संस्थाओं को स्वायत्ता, जिसमें वित्तीय स्वायत्ता भी निहित है, प्रदान करने का वचन देती है।
  6. हम स्कूल कालेजों में कला शिक्षा को बढ़ावा देंगे तथा उन संस्थानों को विशेष रूप से सहायता करेंगे जो कला सिखाते हैं। हम अधिक से अधिक छात्रवृत्ति और अध्येतावृत्ति देकर छात्रों को मानव शास्त्र और पुरातत्व विज्ञान का अध्ययन करने को प्रोत्साहित करेंगे।
  7. कांग्रेस संग्रहालयों, कला दीर्घाओं, पुस्तकालयों और अभिलेखागार की स्थापना के लिए निजी और सरकारी प्रयासों को बढ़ावा देगी। कांग्रेस यह सुनिश्चित करेगी कि ये संस्थान बच्चों, छात्रों, इतिहासकारों और शोधकर्ताओं के लिए आसानी से उपलब्ध हों।
  8. भारत से चोरी चली गई कला को वापस लाने के प्रयास किये जायेंगे।
  9. कांग्रेस भारत की कला और संस्कृति के डिजिटल अभिलेखागार बनाने के लिए पर्याप्त धन और मानव संसाधन  उपलब्ध करवायेंगी।
  10. कॉपीराइट कानून को और मजबूत करने के साथ ही लागू किया जायेगा, कॉपीराइट अधिनियम के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए कॉपीराइट बोर्ड का गठन, पुर्नगठन और सशक्तिकरण किया जायेगा।
  11. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को और अधिक धन और मानव संसाधन उपलब्ध करवाये जायेगे, और अधिक ऐतिहासिक स्मारकों को पुरातत्व विभाग की देखभाल और संरक्षण के दायरे में लाया जायेगा।
  • काम

    रोजगार और विकास

  • दाम

    सबके हितार्थ अर्थव्यवस्था

  • शान

    हमारी दूरदर्शिता और ढृढ़शक्ति पर गर्व

  • सम्मान

    सभी के लिये सम्मानजनक जीवन

  • सुशासन

    स्वतंत्र और जवाबदेह संस्थानों की मदद से

  • स्वाभिमान

    वंचितों का आत्मसम्मान